लोकसभा चुनाव 2024: दलित फैक्टर तय करेगा बीजेपी या विपक्ष में कौन मारेगा बाजी

उत्तर प्रदेश के लोकसभा चुनाव 2024 के चौथे चरण में मतदान का समय नजदीक आ रहा है। 13 मई को 13 सीटों के लिए चुनाव होने वाला है। इस चरण के लिए चुनाव प्रचार का समय शाम के छह बजे से बंद है। यहां तक कि ददरौल विधानसभा के उपचुनाव के लिए भी वोटिंग 13 मई को होगी। इन सभी क्षेत्रों में कुल 130 प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमाने के लिए तैयार हैं। क्या दलित फैक्टर तय करेगा बीजेपी या विपक्ष में कौन मारेगा बाजी आइये जानने की कोशिश करे।

चौथे चरण के चुनाव में, शाहजहांपुर (एसी), खीरी, धौरहरा, सीतापुर, हरदोई (एससी), मिश्रिख (अनुसूचित जाति), उन्नाव, फर्रूखाबाद, इटावा (अजा), कन्नौज, कानपुर, अकबरपुर, और बहराइच (एससी) लोकसभा सीटों पर मतदान होगा। इनमें से आठ सीटें सामान्य श्रेणी और पांच अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं।

चौथे चरण की कई सीटें आरक्षित श्रेणी की हैं, जिसमें दलित वोटर का महत्वपूर्ण रोल हो सकता है। भाजपा ने दलित वोटरों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए कई प्रयास किए हैं। चौथे और पांचवें चरण की 27 सीटों पर दलित मतदाता निर्णायक स्थिति में है। इस विषय पर खासकर ध्यान दिया जा रहा है क्योंकि कई सीटों पर दलित मतदाता बहुतायत में है। जैसे कि मिश्रिख और मोहनलालगंज जैसी सुरक्षित सीटें।

इसके साथ ही, बाराबंकी, हरदोई, कौशांबी, बहराइच, और इटावा सीटें ऐसी हैं जहां दलित वोटरों का बहुतायत में हिस्सा है। बीजेपी ने चौथे और पांचवें चरण की 27 सीटों में से 26 पर पिछले चुनाव में जीत हासिल की थी। इसलिए, इस बार भी यह दलित मतदाताओं के ध्यान में बना हुआ है।

भाजपा ने दलित वोटरों को अपनी ओर मोहित करने के लिए कई उपाय अपनाए हैं। यूपी मंत्री असीम अरुण, राज्यसभा सांसद बृजलाल, मंत्री बेबी रानी मौर्य, एमएलसी लालजी प्रसाद, और एससी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र कनौजिया समेत कई दलित नेता पार्टी के लिए काम कर रहे हैं। उन्हें दलित बस्तियों में जाकर रैलियों का आयोजन करने का जिम्मा सौंपा गया है, ताकि उनके संगठनात्मक जुटाव को मजबूत किया जा सके।

चौथे चरण के चुनाव में दलित मतदाताओं की भूमिका बड़ी महत्वपूर्ण होगी और उनके वोटों का फैसला चुनाव परिणाम को प्रभावित कर सकता है। भाजपा और विपक्ष के बीच इस समय का मुकाबला राजनीतिक रंगमंच पर हो रहा है, और यह दलित फैक्टर चुनावी परिणाम को तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

यह भी पढ़ें:

यूपी के लोकसभा चुनाव 2024: अमीर उम्मीदवारों की टक्कर

कानपुर लोकसभा सीट: मायावती का आक्रामक राजनीतिक भाषण

गोरखपुर में भाजपा की जनसभा: सीएम योगी आदित्यनाथ ने जनता को संबोधित किया

योगी आदित्यनाथ का बड़ा बयान: समाजवादी पार्टी खाता खोलने में रहेगी असफल

Akhilesh Yadav Lakhimpur Rally Statement: लखीमपुर की जनता बदलेगी थार चलाने वालों का हिसाब

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें आपकी अपनी वेबसाइट bavaalnews.com के साथ। इस आर्टिकल के बारे में अपनी राय आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Leave a Comment