कांग्रेस: राहुल गांधी ने रायबरेली जीतने के लिए बनाया मेगा प्लान

लोकसभा चुनाव 2024 के मद्देनजर कांग्रेस ने रायबरेली सीट पर जीत दर्ज करने के लिए पूरी ताकत झोंक दी है। इस बार कांग्रेस ने राहुल गांधी को रायबरेली से उम्मीदवार बनाया है और उन्हें जिताने के लिए पार्टी के बड़े-बड़े चेहरे मैदान में उतर चुके हैं।

रायबरेली में कांग्रेस का मेगा प्लान

रायबरेली में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी से लेकर कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्री, डिप्टी मुख्यमंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री लगातार चुनाव प्रचार कर रहे हैं। प्रियंका गांधी यहां घर-घर जाकर लोगों से मिल रही हैं और वोट मांग रही हैं। खबर है कि सोनिया गांधी भी अपने बेटे राहुल गांधी के प्रचार के लिए रायबरेली आ सकती हैं।

राहुल गांधी का डबल चैलेंज

राहुल गांधी पिछली बार की तरह इस बार भी दो लोकसभा सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं। पहली सीट वायनाड है, जहां से उन्होंने 2019 में जीत दर्ज की थी, जबकि दूसरी सीट रायबरेली है। अमेठी से हार का सामना करने के बाद राहुल गांधी ने इस बार रायबरेली पर विशेष ध्यान केंद्रित किया है।

रायबरेली में राहुल गांधी का मुकाबला योगी सरकार के मंत्री दिनेश प्रताप सिंह और बसपा के ठाकुर प्रसाद से है। भाजपा ने भी इस सीट पर अपनी पूरी ताकत लगा दी है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम बृजेश पाठक और केशव प्रसाद मौर्य जैसे बड़े नेता भाजपा के लिए प्रचार कर रहे हैं।

कांग्रेस की रणनीति

कांग्रेस ने रायबरेली में अपने नेताओं की पूरी फौज उतार दी है। छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रायबरेली में डेरा जमा रखा है और घर-घर जाकर वोट मांग रहे हैं। हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू, डिप्टी सीएम मुकेश अग्निहोत्री, राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट और कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार सहित कांग्रेस के तमाम दिग्गज नेता रायबरेली में चुनाव प्रचार में जुटे हुए हैं।

सोनिया गांधी का समर्थन

कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी 2004 से लेकर 2024 तक रायबरेली से सांसद रही हैं। मोदी लहर में भी सोनिया गांधी ने रायबरेली से जीत दर्ज की थी, लेकिन अब वे राज्यसभा सदस्य हैं। सेहत में गिरावट के चलते सोनिया लंबे समय से चुनाव प्रचार से दूर हैं, लेकिन रायबरेली सीट पर राहुल गांधी के नामांकन में वे शामिल हुई थीं। अब खबर है कि सोनिया गांधी शुक्रवार को चुनाव प्रचार के लिए रायबरेली में उतरेंगी। रायबरेली में राहुल गांधी और अखिलेश यादव की संयुक्त रैली में भी सोनिया गांधी के शामिल होने की उम्मीद है।

कांग्रेस की उम्मीदें

रायबरेली कांग्रेस के लिए एक महत्वपूर्ण सीट रही है। सोनिया गांधी के नेतृत्व में इस सीट पर लगातार जीत दर्ज की गई है। कांग्रेस चाहती है कि इस बार भी रायबरेली सीट उनके पास ही रहे। राहुल गांधी के प्रचार के लिए कांग्रेस ने सभी बड़े नेताओं को रायबरेली भेजा है, ताकि किसी भी तरह की कमी न रह जाए।

कांग्रेस की रणनीति साफ है, सभी बड़े नेताओं को एकजुट करना, ग्राउंड स्तर पर जनता से सीधा संवाद करना और हर संभव प्रयास करना ताकि रायबरेली में जीत सुनिश्चित हो सके। प्रियंका गांधी का स्थानीय लोगों से जुड़ना, सोनिया गांधी का प्रचार में उतरना और राहुल गांधी का लगातार संपर्क बनाए रखना, कांग्रेस की इस बार की तैयारी को दर्शाता है।

भाजपा की तैयारी

भाजपा ने भी रायबरेली सीट पर अपनी मजबूत पकड़ बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम बृजेश पाठक और केशव प्रसाद मौर्य जैसे नेता लगातार भाजपा के लिए प्रचार कर रहे हैं। भाजपा का उद्देश्य है कि इस बार रायबरेली सीट उनके खाते में जाए।

रायबरेली लोकसभा चुनाव 2024: महत्वपूर्ण विवरण

मुद्दाविवरण
कांग्रेस उम्मीदवारराहुल गांधी
प्रचार में शामिल बड़े नेताप्रियंका गांधी, भूपेश बघेल, सुखविंदर सिंह सुक्खू, मुकेश अग्निहोत्री, अशोक गहलोत, सचिन पायलट, डीके शिवकुमार
सोनिया गांधी की भूमिकाबेटे राहुल गांधी के प्रचार के लिए आने की संभावना
राहुल गांधी की अन्य सीटवायनाड, केरल
मुख्य विरोधी उम्मीदवारदिनेश प्रताप सिंह (भाजपा), ठाकुर प्रसाद (बसपा)
भाजपा के प्रमुख प्रचारकअमित शाह, योगी आदित्यनाथ, बृजेश पाठक, केशव प्रसाद मौर्य
सोनिया गांधी का राजनीतिक इतिहास2004 से 2024 तक रायबरेली से सांसद
कांग्रेस की रणनीतिबड़े नेताओं का ग्राउंड स्तर पर प्रचार, सोनिया गांधी का समर्थन
भाजपा की रणनीतिकेंद्रीय और राज्य स्तर के नेताओं का व्यापक प्रचार
रायबरेली सीट का महत्वकांग्रेस के लिए ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण, भाजपा के लिए चुनौतीपूर्ण अवसर
संयुक्त रैलीराहुल गांधी और अखिलेश यादव की संयुक्त रैली में सोनिया गांधी के शामिल होने की संभावना

निष्कर्ष

लोकसभा चुनाव 2024 में रायबरेली सीट पर मुकाबला काफी दिलचस्प और चुनौतीपूर्ण है। कांग्रेस ने अपने मेगा प्लान के तहत बड़े नेताओं को मैदान में उतारा है, जबकि भाजपा भी अपनी पूरी ताकत झोंक रही है। देखना यह होगा कि रायबरेली की जनता किसे अपना प्रतिनिधि चुनती है और कौन इस बार बाजी मारता है। कांग्रेस के लिए यह सीट बहुत महत्वपूर्ण है, जबकि भाजपा के लिए यह एक चुनौतीपूर्ण अवसर है।

यह भी पढ़ें:

Loksabha Chunav 2024: जौनपुर में समाजवादी पार्टी को दोहरा झटका, भाजपा को बड़ी राहत, बदल सकते हैं राजनीतिक समीकरण

प्रियंका गांधी: ‘स्वाति मालीवाल के साथ खड़ी हूं, उम्मीद है केजरीवाल करेंगे इंसाफ’

लोकसभा चुनाव 2024: अमित शाह का अंदाज़ – उत्तर प्रदेश में बीजेपी की सीटों का मुद्दा

राहुल गांधी ने ओडिशा में संविधान की कॉपी लहराई: भाजपा के नेताओं को दी चेतावनी

Loksabha Chunav: योगी आदित्यनाथ आज लखनऊ के अमीनाबाद चौराहे पर जनसभा को करेंगे संबोधित

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें आपकी अपनी वेबसाइट bavaalnews.com के साथ। इस आर्टिकल के बारे में अपनी राय आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Leave a Comment