लोकसभा चुनाव 2024: रायबरेली में कांग्रेस का पलटवार, बीजेपी को कड़ी टक्कर देने की तैयारी

लोकसभा चुनाव 2024 उत्तर प्रदेश की रायबरेली सीट इस बार भी चर्चा का केंद्र बनी हुई है। एक तरफ कांग्रेस के दिग्गज नेता राहुल गांधी हैं, तो दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी ने दिनेश सिंह को मैदान में उतारा है। बीजेपी ने इस सीट पर जीत सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत शुरू कर दी है, लेकिन कांग्रेस ने भी अपनी रणनीति को धार देने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।

रायबरेली का सियासी इतिहास

रायबरेली लोकसभा सीट कांग्रेस का गढ़ मानी जाती रही है। इंदिरा गांधी, अरुण नेहरू, शीला कौल, सतीश शर्मा और सोनिया गांधी जैसे बड़े नेताओं ने यहां से लंबे समय तक राजनीति की है। इस बार कांग्रेस ने राहुल गांधी को मैदान में उतारा है, जिनके सामने बीजेपी ने दिनेश सिंह को खड़ा किया है।

बीजेपी की रणनीति

बीजेपी ने दिनेश सिंह को जिताने के लिए जातीय समीकरणों पर जोर दिया है। पार्टी ने चुनाव से पहले ऊंचाहार सीट से सपा विधायक मनोज पांडे को अपने पाले में शामिल कर लिया। बीजेपी के शीर्ष नेता अमित शाह खुद मनोज पांडे के घर गए और उन्हें पार्टी में शामिल कराया। इस कदम से बीजेपी ने अपने पक्ष में मजबूत समर्थन जुटाने की कोशिश की है।

कांग्रेस का पलटवार

कांग्रेस ने भी इस बार बीजेपी के इस दांव का तोड़ निकाल लिया है। कांग्रेस ने स्वामी प्रसाद मौर्य के बेटे उत्कर्ष मौर्य का समर्थन हासिल कर लिया है। शुक्रवार को प्रियंका गांधी से मुलाकात के बाद उत्कर्ष मौर्य ने कांग्रेस का समर्थन करने की घोषणा की। उत्कर्ष मौर्य पहले ऊंचाहार विधानसभा से चुनाव लड़ चुके हैं और मौर्य बिरादरी में उनकी अच्छी पकड़ है।

उत्कर्ष मौर्य का समर्थन

उत्कर्ष मौर्य के समर्थन से कांग्रेस को ऊंचाहार क्षेत्र में और मजबूती मिलेगी। मौर्य बिरादरी का वोट बैंक यहां काफी प्रभावशाली है और उत्कर्ष मौर्य का समर्थन कांग्रेस को बड़ा फायदा दिला सकता है। इसे मनोज पांडे के बीजेपी में शामिल होने की काट के रूप में देखा जा रहा है।

रायबरेली की जातीय समीकरण

रायबरेली की राजनीति में जातीय समीकरण का बड़ा महत्व है। कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही पार्टियां अपने-अपने तरीकों से इन समीकरणों को साधने की कोशिश कर रही हैं। कांग्रेस जहां पुराने गढ़ को बचाने में लगी है, वहीं बीजेपी इस सीट पर सेंध लगाने के प्रयास में है।

महत्वपूर्ण जानकारियाँ

मुद्दाविवरण
कांग्रेस उम्मीदवारराहुल गांधी
बीजेपी उम्मीदवारदिनेश सिंह
बीजेपी का समर्थनसपा के पूर्व विधायक मनोज पांडे
कांग्रेस का समर्थनउत्कर्ष मौर्य
कांग्रेस के लिए चुनौतीबीजेपी का जातीय समीकरण
कांग्रेस के गढ़इंदिरा गांधी, अरुण नेहरू, शीला कौल, सतीश शर्मा, सोनिया गांधी
चुनाव की तिथि2024 लोकसभा चुनाव
बीजेपी की रणनीतिजातीय समीकरण साधना, मनोज पांडे को पार्टी में शामिल करना
कांग्रेस की रणनीतिउत्कर्ष मौर्य का समर्थन हासिल करना

रायबरेली लोकसभा सीट पर इस बार का चुनाव बेहद दिलचस्प होने वाला है। दोनों पार्टियों ने अपनी-अपनी रणनीतियों को अमल में लाते हुए जोर-शोर से तैयारी शुरू कर दी है। यह देखना दिलचस्प होगा कि जातीय समीकरणों और राजनीतिक दांवपेंचों के बीच कौन सी पार्टी बाजी मारती है।

यह भी पढ़ें:

पीएम मोदी का इजरायल-हमास युद्ध पर बयान: ‘मुझे मुस्लिमों पर घेरते हैं लेकिन रमजान में मैंने…’

लोकसभा चुनाव 2024: केजरीवाल का आत्मविश्वास, ‘चार जून को जेल से देखूंगा हमारी जीत’

कांग्रेस: राहुल गांधी ने रायबरेली जीतने के लिए बनाया मेगा प्लान

Loksabha Chunav 2024: जौनपुर में समाजवादी पार्टी को दोहरा झटका, भाजपा को बड़ी राहत, बदल सकते हैं राजनीतिक समीकरण

प्रियंका गांधी: ‘स्वाति मालीवाल के साथ खड़ी हूं, उम्मीद है केजरीवाल करेंगे इंसाफ’

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें आपकी अपनी वेबसाइट bavaalnews.com के साथ। इस आर्टिकल के बारे में अपनी राय आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Leave a Comment