बसपा को बड़ा झटका: मायावती के करीबी पूर्व IPS प्रेम प्रकाश ने थामा बीजेपी का दामन

Lok Sabha Elections 2024: उत्तर प्रदेश में पांच चरणों के मतदान संपन्न हो चुके हैं और छठे चरण के लिए प्रचार अपने अंतिम दौर में है। इस बीच भारतीय जनता पार्टी ने बहुजन समाज पार्टी को बड़ा झटका दिया है। जानकारी के अनुसार, पूर्व आईपीएस और बसपा सुप्रीमो मायावती के खासमखास रहे अधिकारी प्रेम प्रकाश आज बीजेपी में शामिल होंगे।

बसपा को बड़ा झटका

पूर्व आईपीएस अधिकारी प्रेम प्रकाश बसपा सुप्रीमो मायावती के करीबी रहे हैं। वे मायावती के पसंदीदा अफसरों में शामिल थे। प्रेम प्रकाश दलित समुदाय से आते हैं, और उनके बीजेपी में शामिल होने के बाद बसपा के वोटबैंक में सेंध लगना तय है। इससे बसपा का बड़ा वोटबैंक बीजेपी की ओर खिंच सकता है।

बीजेपी में दलितों की बढ़ती संख्या

प्रेम प्रकाश चौथे दलित आईपीएस अधिकारी हैं जो बीजेपी में शामिल हो रहे हैं। उनसे पहले बृजलाल, असीम अरुण और विजय कुमार ने बीजेपी का दामन थामा था। बीजेपी में दलित अफसरों की फौज बढ़ रही है, और पार्टी दलितों में पैठ बनाने की कोशिश में जुटी है। प्रेम प्रकाश के बीजेपी में शामिल होने को भी इसी तर्ज पर देखा जा रहा है।

कौन हैं पूर्व आईपीएस प्रेम प्रकाश?

प्रेम प्रकाश दिल्ली के रहने वाले हैं और वे 1993 बैच के आईपीएस अधिकारी रहे हैं। बीटेक के बाद पुलिस मैनेजमेंट में एमडी कोर्स करने वाले प्रेम प्रकाश आगरा और मुरादाबाद में पुलिस अधीक्षक रह चुके हैं। 2009 में उन्होंने राजधानी लखनऊ में डीआईजी का जिम्मा संभाला था। उनकी छवि एक सख्त अफसर की रही है, जो न केवल अपराधियों बल्कि सुस्त पुलिसकर्मियों को भी सख्ती से निपटते थे।

माफिया मुख्तार अंसारी की जिम्मेदारी

तीन साल पहले जब पंजाब की रोपण जेल में बंद माफिया मुख्तार अंसारी को यूपी लाया गया था, तब इसकी जिम्मेदारी भी आईपीएस अधिकारी प्रेम प्रकाश को ही दी गई थी। अपने कार्यकाल के दौरान उन्हें कई सम्मान भी मिल चुके हैं, जैसे पीएम-26/01/11, डीजी कमेंडेशन डिस्क सिल्वर-15/08/2018, डीजी कमेंडेशन डिस्क गोल्ड -15/08/2019, और डीजी कमेंडेशन डिस्क प्लैटिनम-26/01/2022।

चुनावी माहौल पर असर

प्रेम प्रकाश के बीजेपी में शामिल होने से पूर्वांचल में बसपा के वोटबैंक पर असर पड़ सकता है। छठे चरण के मतदान से पहले इस कदम से बीजेपी को फायदा हो सकता है। प्रेम प्रकाश की प्रतिष्ठा और उनके दलित समुदाय से आने की वजह से बीजेपी को दलित वोटबैंक में भी लाभ मिलने की उम्मीद है।

भारतीय जनता पार्टी के इस कदम को बसपा के वोटबैंक में सेंध लगाने की रणनीति के रूप में देखा जा रहा है। आने वाले दिनों में चुनावी माहौल में इस फैसले का असर साफ दिख सकता है। बीजेपी का यह कदम दलित समुदाय में पार्टी की पैठ मजबूत करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण प्रयास है।

प्रेम प्रकाश के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी

विवरणजानकारी
नामप्रेम प्रकाश
पदपूर्व आईपीएस अधिकारी
बैच1993
शहरदिल्ली
शिक्षाबीटेक, पुलिस मैनेजमेंट में एमडी
प्रमुख पदआगरा और मुरादाबाद में पुलिस अधीक्षक, लखनऊ में डीआईजी
सम्मानपीएम-26/01/11, डीजी कमेंडेशन डिस्क सिल्वर-15/08/2018, डीजी कमेंडेशन डिस्क गोल्ड-15/08/2019, डीजी कमेंडेशन डिस्क प्लैटिनम-26/01/2022
प्रमुख घटनामाफिया मुख्तार अंसारी को पंजाब से यूपी लाने की जिम्मेदारी
राजनीतिक जुड़ावबीजेपी (भारतीय जनता पार्टी)
समुदायदलित

प्रेम प्रकाश का राजनीतिक महत्व

विवरणजानकारी
पूर्व राजनीतिक जुड़ावबहुजन समाज पार्टी (बसपा)
बीजेपी में शामिल होने की तारीखछठे चरण से पहले
प्रभावबसपा के वोटबैंक पर संभावित असर
राजनीतिक लाभबीजेपी के दलित वोटबैंक में बढ़त
बीजेपी में शामिल होने वाले अन्य दलित आईपीएसबृजलाल, असीम अरुण, विजय कुमार

यह भी पढ़ें:

आज PM मोदी, मल्लिकार्जुन खरगे और अमित शाह की रैलियों से बढ़ेगा चुनावी जोश

लोकसभा चुनाव 2024: पांचवे चरण के बाद पीएम मोदी का पहला रिएक्शन, ‘किसी भी हद तक जा सकता है I.N.D.I.A’

लोकसभा चुनाव 2024: अंबाला में पीएम मोदी का पाकिस्तान पर हमला – ‘पाकिस्तान के हाथ में भीख का कटोरा’

लोकसभा चुनाव 2024: झांसी में अमित शाह का भाषण – ‘बुंदेलखंड में बन रहे तोप के गोले पाकिस्तान का सफाया कर देंगे’

अमेठी में स्मृति ईरानी के खिलाफ राजपूतों का विरोध, बीजेपी को वोट न देने का संकल्प

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें आपकी अपनी वेबसाइट bavaalnews.com के साथ। इस आर्टिकल के बारे में अपनी राय आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Leave a Comment