लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण का रण कल: दिग्गजों की किस्मत का फैसला

लोकसभा चुनाव 2024 के सातवें चरण का मतदान कल यानी 1 जून को होगा। इससे पहले आखिरी चरण का चुनाव प्रचार गुरुवार शाम 5 बजे थम गया। इस चरण में 7 राज्यों की 57 सीटों पर वोटिंग होगी। इसके लिए सभी आवश्यक तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। इस चरण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वाराणसी सीट भी शामिल है, जो इस चुनाव के सबसे महत्वपूर्ण सीटों में से एक है।

आखिरी चरण में किस्मत आजमाएंगे दिग्गज

आखिरी चरण में कई दिग्गज नेताओं की किस्मत का फैसला होगा। इनमें प्रमुख हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी और लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती। वाराणसी सीट से पीएम मोदी, बंगाल की डायमंड हार्बर सीट से अभिषेक बनर्जी और बिहार की पाटलिपुत्र सीट से मीसा भारती चुनावी मैदान में हैं।

सातवें चरण का चुनाव प्रचार थमा

लोकसभा चुनाव 2024 के आखिरी चरण का चुनावी अभियान गुरुवार को शाम पांच बजे थम गया। अब 1 जून को सातवें चरण का मतदान होगा। इस चरण में आठ राज्यों की 57 सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे। इसी के साथ सातों चरणों के चुनाव संपन्न हो जाएंगे।

चुनाव की शुरुआत और अंतिम चरण

लोकसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही 16 मार्च से देशभर में चुनाव शुरू हुए। अब आखिरी चरण का मतदान कल यानी 1 जून को है। इस आखिरी चरण का चुनावी प्रचार गुरुवार 30 मई को शाम पांच बजे थम गया। अब कल 1 जून को सातवें चरण की वोटिंग के साथ ही सभी चरणों की मतदान प्रक्रिया संपन्न हो जाएगी।

बंगाल और बिहार में रोचक मुकाबला

बंगाल की डायमंड हार्बर सीट, जहां से ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी मैदान में हैं, और बिहार की पाटलिपुत्र सीट, जहां से लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती चुनाव लड़ रही हैं, पर भी चुनाव होगा। इन सीटों पर रोचक मुकाबला देखने को मिल रहा है।

भाजपा और कांग्रेस का जोरदार प्रचार

अंतिम चरण के चुनाव प्रचार में भाजपा और कांग्रेस ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी। भाजपा और कांग्रेस ने अपने सभी स्टार प्रचारकों को मैदान में उतार रखा है। अंतिम चरण का यह चुनाव भाजपा की अगुवाई वाले राजग गठबंधन और कांग्रेस के नेतृत्व वाले आईएनडीआईए, दोनों के लिए ही काफी अहम है।

2019 में एनडीए की जीत

साल 2019 में आठ राज्यों की इन 57 सीटों में एनडीए ने 32 सीटों पर जीत दर्ज की थी, जबकि तत्कालीन यूपीए ने नौ सीटों पर जीत दर्ज की थी। बाकी सीटों पर दूसरे दलों ने विजय हासिल की थी। फिलहाल, दोनों ही गठबंधन इस बार अपनी जीत के आंकड़े को बढ़ाने के लिए पूरी ताकत लगाए हुए हैं।

पंजाब में रोचक मुकाबला

पंजाब में इस बार का चुनाव सबसे रोचक माना जा रहा है। यहां चार प्रमुख दल यानी आम आदमी पार्टी (आप), भाजपा, कांग्रेस और अकाली दल मैदान में हैं। सभी इस बार अलग-अलग चुनाव लड़ रहे हैं। इससे मुकाबला और भी दिलचस्प हो गया है।

निर्वाचन आयोग की तैयारी

छह चरणों का चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न कराने के बाद निर्वाचन आयोग का पूरा जोर सातवें चरण के चुनाव को भी शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराने पर है। आयोग इस दौरान हर दिन की चुनावी गतिविधियों पर पूरी नजर रख रहा है। साथ ही चुनाव के दौरान फैलाए जाने वाले दुष्प्रचारों को लेकर भी सतर्क है और ऐसे झूठ की तुरंत हकीकत भी सामने ला रहा है। आयोग ने पर्यवेक्षकों को भी अतिरिक्त सतर्क रहने का सुझाव दिया है।

पहले चरण से लेकर छठे चरण तक की मतदान तिथियां

पहले चरण के लिए मतदान 19 अप्रैल को, दूसरे चरण के लिए 26 अप्रैल को, तीसरे चरण के लिए 7 मई को, चौथे चरण के लिए 13 मई को, पांचवें चरण के लिए 20 मई को और छठे चरण के लिए मतदान 25 मई को हुआ था। अब सातवें चरण का मतदान 1 जून को होगा।

लोकसभा चुनाव के इस अंतिम चरण में सभी राजनीतिक दलों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। अब देखना होगा कि कौन से दल और नेता जनता का विश्वास जीतने में सफल होते हैं। मतदाताओं से अपील है कि वे अपने मतदान अधिकार का प्रयोग करें और लोकतंत्र को मजबूत बनाएं।

यह भी पढ़ें:

इंडिया’ गठबंधन की बैठक पर विवाद: विपक्ष पर तीखी बयानबाजी, जानिए क्या बोले नेता

हरियाणा में बोगस वोटिंग पर मनोहर लाल खट्टर ने उठाए सवाल, 400 सीटें जीतने का दावा

प्रधानमंत्री मोदी की रैलियों से गूंजेगा बंगाल और ओडिशा, राहुल गांधी का पंजाब दौरा

मनोज तिवारी का जवाब: क्षेत्रवाद के मुद्दे पर कांग्रेस और सुखपाल खैरा पर निशाना

प्रधानमंत्री मोदी का दावा: TMC अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही, पश्चिम बंगाल में भाजपा को मिलेगी सर्वाधिक सफलता

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें आपकी अपनी वेबसाइट bavaalnews.com के साथ। इस आर्टिकल के बारे में अपनी राय आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Leave a Comment